इसबगोल के फायदे और किन बीमारी के लिए उसे करे - Ayurveda in hindi-Gharelu Nuskhe-Desi Nuskhe-ayurvedic nuskhe

Jan 20, 2018

इसबगोल के फायदे और किन बीमारी के लिए उसे करे


Isabgol-Ke-Fayde


इसबगोल के फायदे डॉक्टरों ने इसे इस्तेमाल किया और इस के आम फायदे की तस्दीक की लेबर्ट्री मैं इस का केमियाए तागज़िया किया गया इस से जो बात सामने अयी यानी इसबगोल के बीजों मिएं फीट्स यानी हाशमी टेल पाया गया जलाली मदा यानी (Elbevenes Meter)और फलोड़ा नुमा गेली जैसा लुआब ये वो मधा है जो इंसानी जीसम मैं बीमारी के खिलाफ अपना असर देखता है ये लुआब यानी इसबगोल की हैरत अंगीज मिसाल ये है 


के इंसानी जिस्म मैं 24 घंटे तेज़ाब यानी ( Acid Hydrocloric ) जैसे तीज असर तेज़ाब और लब्लाबे के तेज़ाब मैं रहने के बावजूद इसबगोल के लुआब का बराई नाम हेसा हज़म होता है और तमाम हज़म के अमल के द्रजात को ते करता हुआ बरी आंट मैं मौजूद बैक्टीरिया पर असर अंदाज़ 


होता है और ( Colonization) को एकता करता है इन तजबो की असर इस पर कुछ असर नहीं करता और फिर आगे जाकर लुआब यानी जेली इं बैक्टीरिया  मसलन  सिसी , लकस, फ्लेक्स ,तेगा ,सिसी लस फ्लेक्स 


नर,बाइज लस कोलाई और सिसी लरकलारा भी इस फर कुछ असर नहीं करता लेबर्ट्री मैं टेस्ट के दौरान ये बात भी सामने आए है के इसबगोल का लुआब चोटी अंत की केमिया यी का असर नहीं लेता ना मेडे के कृष्मत का असर लेता है 


और ना बरी आंट मैं मौजूद  वाइरस इस का कुछ भिघर सकता ये लुआब इसबगोल आंतों के ज़ख्मों और खराशो पर बलघमी तेह चरदेता है और वायरस को बढ़ाने से रोकता है और जो ज़हरीली मवाद जो इन वायरस की मौजूदगी से पैदा होती है उन को जज़ब कर लेता है इसबगोल के बारे मिएं जो सैसंदन राए रक्ते है


 इन के मुताबिक ये दोस्ती दर्जे का का सर्ड यानी ठंडा है इसबगोल को आमतौर पर लॉस मोषण की बीमारी के लिए उसे करते है और ये लॉस मोषण बैक्टीरिया का हो या वायरस का दोनों के लिए जरोर उसे करें 


इसबगोल का लुआब आंतों को खराशो से मेहफोज रक्ता है और ये इं खराशो फर लुअभी ते चरदेता है जिस से फैसले का ज़हरीला असर इं 
खराशो और ज़ख्मों पर नहीं होता इसबगोल के दो तरह के करेशमे है अगर बीमार को कबाज हो तो तो पाखाना खोलता है और अगर लॉस मोषण हो तू उस को बंद करता है यानी दोनों बीमारी मैं इस्तेमाल करें 


याद रखने की बात ये है के इसबगोल बीज है और इस का चलका जिस को मखसोस तरीके से अलग किया जाता है इस को भोसी कहा जाता इसबगोल मिएं कबाज पैदा करने  की यानी मिकानिकी रोकावत बनाने की 


खासियत मौजूद होती है जब के इस की भोसी मैं ये रोकावत बनाने की खासियत नहीं होती इस लिए इसबगोल के बीज को वाहा उसे करना जरूरी कहा रोकावत पैदा की जाए और भोसी को वाहा उसे करें कहा कबाज पैदा करना हो




Isabgol-Ke-Fayde




Isabgol ke fayde doctoro ne ise istemaal kiya aur is ke aam fayde ki tasdeek ki laboratory main is ka kemiyae test kiya gaya is se jo baat saamane ayee yaanee isabgol ke beejon mien pheets yaanee hashmi tel paaya gaya jalaalee mada yaanee (ailbaivainais maitair)aur phaloda numa jeli jaisa luaab ye vo madha hai jo insaanee jeesam main bimari ke khilaaph apana asar dekhata hai


ye luaab yaanee isabagol kee hairat angeej misaal ye hai ke insaanee jism main 24 ghante tezaab yaanee ( achid hydrochlorich ) jaise teej asar tezaab aur lablaabe ke tezaab main rahane ke baavajood isabgol ke luaab ka baraee naam hesa hazam hota hai aur tamaam hazam ke amal ke drajaat ko te karata hua baree aant main maujood baikteeriya par asar andaaz hota hai



aur ( cholonization) ko ekata karata hai in tajabo kee asar is par kuchh asar nahin karata aur phir aage jaakar luaab yaanee jelee in baikteeriya masalan sisee , lakas, phleks ,tega ,sisee las phleks nar,baij las kolaee aur sisee larakalaara bhee is phar kuchh asar nahin karata lebartree main test ke dauraan ye baat bhee saamane aae hai ke isabgol ka luaab chotee ant kee kemiya yee ka asar nahin leta na mede ke krshmat ka asar leta hai


aur na baree aant main maujood vairas is ka kuchh bhighar sakata ye luaab isabagol aanton ke zakhmon aur kharaasho par balghami teh chara deta hai aur varys ko badhaane se rokta hai aur jo zahrile mawad jo


in varys kee maujoodgee se paida hotee hai un ko jazab kar leta hai isabagol ke baare mien jo saisandan rae rakte hai in ke mutaabik ye dostee darje ka ka sard


yaanee thanda hai isabgol ko aamataur par los moshan kee bimari ke lie use karte hai aur ye los moshan baikteeriya ka ho ya varys ka donon ke lie jaror use karen isabagol ka luaab aanton ko kharaasho se mehaphoj rakta hai


aur ye in kharaasho phar luabhee te charadeta hai jis se phaisale ka zahareela asar in kharaasho aur zakhmon par nahin hota isabagol ke do tarah ke


kareshame hai agar beemaar ko kabaaj ho to to paakhaana kholata hai aur agar los moshan ho too us ko band karata hai yaanee donon bimari main istemaal karen

yaad rakhne kee baat ye hai ke isabagol beej hai aur is ka chalaka jis ko makhasos tareeke se alag kiya jaata hai is ko bhosee kaha jaata isabagol mien kabaaj paida karane kee yaanee mikaanikee rokaavat banaane kee


khaasiyat maujood hotee hai jab ke is kee bhosee main ye rokaavat banaane kee khaasiyat nahin hotee is lie isabagol ke beej ko vaaha use karana jarooree kaha rokaavat paida kee jae aur bhosee ko vaaha use karen kaha kabj paida karana ho

No comments:

Post a Comment