पीलिया का इलाज के तीन घरेलू उपाय

piliya-ka-ilaj


पीलिया का इलाज ये बीमारी जिगर मैं जियादा सफरा पैदा करके खून की रंगत को ज़र्ड कर्डेता है बीमार के आंखे और पेशाब बिल्कुल ज़र्ड होजता है बल्कि बीमार देरिना होजता हाइ फिर नाखून और तमाम बदन पर ज़र्दी 


अजती है इस के लिए बादाम निहायत मुफीद है कुछ लोग चिकनाए से माना करते है मगर मेरे तुजरूबा से बादाम बुहट मुफीद साबित होचुके है मघाज बादाम 8 अदद चोटी लाईची 5 अदद छुहारे 2 अदद इं को रात के 


टाइम मती  के कोरी गहरे में पोरी रात पर रहने दे सुबह निकाल कर चुहरो
की घुटली और मघाज बादाम लाईची के चेले दूर करके कोंदी मैं खूब घोटी और फिर 5 टोला मसरी मिला कर फिर आखिर मैं घाए का 5 टोला मकान 


मिला कर बीमार को चताए दे 3 तेश्री दिन पेशाब साफ होगा एक दफा एक बीमार बुहट मेडिसन के इस्तेमाल किए ते मैने यही बदमो वाला घरेलू नुस्खा दिया था इस तरीका इस्तेमाल के बाद सेहत हावी थी वो 21वक्तो से खुच ना खाया था रूती के नाम से नफ़रत हो गए थी फिली मर्तबा इस्तेमाल करने फायदा हुआ था 


* पीलिया का इलाज के लिए मोली के सबाज पटो और शाखो का पानी दस टोला चीनी डॉ टोला मिला कर सुभा के टाइम खाने से तरह का पीलिया  चिंड दिनों मैं खत्म हजाए गा 


* पीलिया का इलाज के लिए कड़ो एक अदद लेकर नरम आग मैं दबा कर भारत करें और इस का पानी नचोर कर इस में मिसरे मिला कर बीमार को पिलाया करें इस जिगर की गर्मी और हर तरह का पीलिया खत्म होजाई गे  कुछ ही दिनों मिएं


पीलिया के इलाज के लिए मेहंदी का रस दस ग्राम दूध के साथ देने   के थोड़ी डर बाद कुष्ता फोलाद एक से दायर रेटी पान मैं रख कर बीमार को से एक वीक के उस से पुराना से पुराना पीलिया खत्म हो जाए गी पीलिया का इलाज के लिए ये बिहतर और आसान तरीका है 
पीलिया-का-इलाज

piliya ka ilaj ye bimari jigar main jiyaada safra paida karke khoon kee rangat ko zard kardeta hai bemaar ke aankhe aur peshaab bilkul zard hojata hai balki bemaar derina hojata hai phir nakhoon aur tamaam badan par zardee ajatee hai is ke


lie badam nihaayat mupheed hai kuchh log chiknae se maana karte hai magar mere tajroba se badam buhat mufeed saabit hochuke hai maghaaj badam 8 adad chotee laechi 5 adad chuhare 2 adad in ko raat ke taim matee ke koree gahare


mein poree raat par rahane de subah nikaal kar chuharo kee ghutalee aur maghaaj baadaam laeechee ke chele door karake kondee main khoob ghotee aur phir 5 tola masaree mila kar phir aakhir main ghae ka 5 tola makaan mila kar bimar ko


chatae de 3 teshree din peshaab saaph hoga ek dapha ek bimar buhat medisan ke istemaal kie te maine yahee badamo vaala gharelu nuskha diya tha is tarika istemaal ke baad sehat haavee thee vo 21vakto se khuch na khaaya tha rootee ke naam se nafarat ho gae thee philee martaba istemaal karane fayada hua tha

* piliya ka ilaj ke lie moli ke sabaaj pato aur shaakho ka pani das tola cheenee do tola mila kar subha ke taim khaane se tarah ka piliya chind dinon main khatm hajae ga

* piliya ka ilaj ke lie kado ek adad lekar naram aag main daba kar bhaarat karen aur is ka paanee nachor kar is mein misare mila kar beemaar ko pilaya karen is jigar kee garmee aur har tarah ka piliya khatm hojaee ge kuchh hee dinon mien


piliya ke ilaj ke lie mehndi ka ras das graam doodh ke saath dene ke thodee dar baad kushta pholaad ek se daayar retee paan main rakh kar bimaar ko se ek veek ke us se puraana se puraana peeliya khatm ho jae gee piliya ka ilaj ke lie ye bihatar aur aasaan tareeka hai

2 comments:

  1. Thanks for sharing home remedies. In addition herbal remedies is also safe and effective. It is fortified with natural remedies.Visit also http://www.hashmidawakhana.org/natural-remedies-for-jaundice-treatment.html

    ReplyDelete
  2. Thanks for sharing home remedies. Consider also taking herbal supplement for jaundice. It is very safe and effective.

    ReplyDelete

Powered by Blogger.